My Lyrics

Online Library Lyrics

  1. Home
  2. Lyric
  3. Alia Bhatt
  4. Alia Bhatt - Humsafar (Alia's Version) [From "Badrinath Ki Dulhania"]

Alia Bhatt - Humsafar (Alia's Version) [From "Badrinath Ki Dulhania"]

Alia Bhatt - Humsafar (Alia's Version) [From

ज़ालिमा क्यूँ हैं दूरियाँ
हूँ तेनू लबा मैं कहाँ
दस तेनू लबा मैं कहाँ

सुन मेरे हुंसफर
क्या तुझे इतनी सी भी खबर

सुन मेरे हमसफर
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसें चलती जिधर
रहूंगी बस वहीं उम्र्र भर
रहूंगी बस वहीं उम्र्र भर, हाए

मुस्कुराना भी तुझी से सीखा है
दिल लगाने का तू ही तरीका है
ऐतबार भी तुझी से होता है
आऔन ना होश में मैं कभी
बाहों में है तेरी ज़िंदगी
है नही था पता
की तुझे मान लूँगी खुदा
की तेरी गलियों में इस क़दर
आउँगी अब हर पहर
ओ सुन मेरे हमसफर
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसें चलती जिधर
रहूंगी बस वहीं उम्र्र भर

रहूंगी बस वहीं उम्र्र भर, हाए
मेरे ज़ालिमा

Kyun hai dooriyan,
Dhunda tennu raaba main kahan,
Das tennu rabba main kahan.

Sun mere humsafar,
Kya tujhe itni si bhi khabar.

Sun mere humsafar,
kya tujhe itni si bhi khabar.

Ki teri saansein chalti jidhar,
rahungi main wahin umar bhar.

Muskurana bhi tujhi se sikha hai,
dil laagane ka bhi tu tarika hai.

Aitbaar bhi tujhi se hota hai,
Aaun na hosh main kabhi.
Baahon main hai teri zindagi.

Hai nahin tha pata,
Ki tujhe maan lungi khuda.
Ki tere gaaliyon main iss qadar,
aungi ab har peher.

Oo sun mere humsafar,
kya tujhe itni si bhi khabar.
Ki teri saansein chalti jidhar,
rahungi bas wahin umar bhar.

(end)